27.6 C
Jaipur
Monday, September 26, 2022
Homeनजरियाआरंभिक उपेक्षा का नतीजा हैं कोविड-19 के भयावह आंकड़े

आरंभिक उपेक्षा का नतीजा हैं कोविड-19 के भयावह आंकड़े

मसीहुद्दीन संजरी

कोरोना पॉजिटिव रोगियों की संख्या में सबसे बड़ी उछाल 75,760 के साथ भारत ने ब्राजील के 69,074 और अमरीका के 75,682 एक दिन के सर्वाधिक रिकार्ड को पीछे छोड़ दिया। आंकड़े जारी करते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि अधिक जांच ने प्रभावी उपकरण का काम किया है, संक्रमण दर में कमी आई है। हालांकि संक्रमण की रफ्तार के हिसाब से पिछले कुछ समय से भारत सबसे आगे है। इससे निबटने के प्रयासों से अर्थव्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है, बेरोजगारी बढ़ी है, गरीब जनता की आय घटी है, शिक्षा प्रभावित हुई है और सामान्य रोगियों के इलाज में बाधा आई है।

देश में कई तरफ से कोविड-19 से लड़ने के सरकार के तौर तरीकों की आलोचना की जा रही थी। आलोचना के प्रमुख बिंदु थे कि जहां भी संक्रमण पाया जाए, जांच को व्यापक किया जाए और संक्रमित व्यक्तियों के दूसरे स्थानों तक जाने पर रोक लगे ताकि संक्रमण से बचे क्षेत्रों तक महामारी न फैले। यह काम भी एक समय सीमा के अंदर करना था क्योंकि लंबे समय तक सब कुछ रोक पाना न तो आसान था और न ही भारत की आर्थिक स्थिति, गरीबी, अशिक्षा और प्रवासियों, खासकर प्रवासी मजदूरों की समस्याओं को देखते हुए यह संभव था।

मार्च में, लॉकडाउन के आरंभ में यह बहुत प्रभावी तरीके से लागू किया गया लेकिन जांच की कमी के कारण उसका कोई बड़ा लाभ नहीं मिल पाया। आज भारत न केवल संक्रमण के मामले में दुनिया में तीसरे स्थान पर है बल्कि 33 लाख संक्रमितों की संख्या के साथ तेजी से ब्राजील के आंकड़े को छूने की तरफ बढ़ रहा है। 1 अगस्त को भारत और ब्राजील के संक्रमितों की संख्या में 9 लाख से अधिक का अंतर था जो 26 अगस्त के आंकड़ों में सिमट कर 4 लाख के करीब बचा है।

अब स्वास्थ्य मंत्रालय खुद यह मान रहा है कि जांच में तेजी प्रभावी साबित हो रही है तो इस काम में शिथिलता की जिम्मेदारी भी उसी की बनती है लेकिन कभी जांच के अनुपात में संक्रमण दर में कमी को सरकार की उपलब्धि के रूप में पेश पेश किया जा रहा है तो कभी रिकवरी दर को। लेकिन, अगर संक्रमितों की वास्तविक संख्या में कमी नहीं आती और अस्पतालों का बोझ नहीं कम होता है तो दोनों के प्रतिशत का कोई मतलब नहीं रह जाता है।

सरकार समर्थक कई बार तर्क देते हैं कि सरकार उचित समय पर सही फैसले नहीं लेती तो स्थिति और भयानक होती। इस तरह के तर्क देना आसान हैं। ‘स्थिति और खराब होती’ का स्थाई तर्क कभी भी और किसी भी परिस्थिति में दिया जा सकता है। मृत्यु दर कमी या शौचालय नहीं बने होते तो संक्रमण काल में देश की क्या हालत होती का तर्क अस्पतालों और स्वास्थ्य से जुड़े अन्य संस्थानों के लिए उससे अधिक उपयुक्त हो सकता था लेकिन इस सच्चाई से इनकार की गुंजाइश नहीं है कि जांच की मात्रा और रफ्तार दोनों में आरंभिक सुस्ती का संक्रमण वृद्धि से सीधा संबंध है।

 

बाबूलाल नागा
बाबूलाल नागाhttps://bharatupdate.com
हम आपको वो देंगे, जो आपको आज के दौर में कोई नहीं देगा और वो है- सच्ची पत्रकारिता। आपका -बाबूलाल नागा एडिटर, भारत अपडेट
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments