31.1 C
New York
Tuesday, July 16, 2024
Homeदेश-दुनियाभारत का भूला हुआ देश: हाशिये से एक दृश्य-बेला भाटिया

भारत का भूला हुआ देश: हाशिये से एक दृश्य-बेला भाटिया

एक समय ऐसा आता है जब हम बड़े हो रहे होते हैं लेकिन हम सिर्फ बड़े होते हैं और एक समय ऐसा आता है जब हम यह समझने लगते हैं कि हमारे आस-पास की चीजें कैसे काम करती हैं। कुछ चीजें समझ में आती हैं और कुछ नहीं, और हम पूछना शुरू कर देते हैं कि क्यों… अचानक जीवन एक अर्थ ले लेता है और हम और अधिक अर्थों की खोज करने लगते हैं।

तीन दशकों से ज्यादा समय से बेला भाटिया के काम और सरोकारों ने उन्हें भारत के ‘‘भूले-बिसरे देश” -बस्तियों, गांवों और झुग्गियों में लोगों के जीवन की कठोर प्रकृति और दलितों, आदिवासियों, बंधुआ मजदूरों, महिलाओं और अन्य वंचित समूहों के जीवन को बर्बाद करने वाली दमनकारी ताकतों से रू-ब-रू कराया है। उन्होंने यह भी देखा है कि कैसे उनकी रोजमर्रा की जिंदगी हिंसा और क्रूरता से भरी हुई है – अक्सर संगठित-जब वे विरोध करते हैं तो उन्हें सामना करना पड़ता है।

“भारत का भूला हुआ देश” बेला के ग्रामीण गुजरात में एक कार्यकर्ता के रूप में शुरुआती वर्षों, नक्सली आंदोलन पर उनके शोध, विभिन्न क्षेत्रों में लोकतांत्रिक अधिकारों के उल्लंघन की उनकी जांच और बस्तर में राज्य और माओवादियों के बीच चल रहे संघर्ष से निपटने के उनके हाल के वर्षों को दर्शाता है। निबंध बिहार और तेलंगाना से लेकर राजस्थान और नागालैंड के अलावा कश्मीर में किए गए प्रत्यक्ष जांच पर आधारित हैं। दीपा मुसहर, कालीबेन, मुचाकी सुकाडी, जरीफा बेगम, तरेप्त्सुबा और अन्य लोगों को इस पुस्तक में खुद के लिए बोलने के लिए पर्याप्त जगह मिली है।

ये निबंध जीवन, मृत्यु और निराशा की कहानियां हैं, लेकिन साथ ही ये प्रतिरोध, लचीलेपन, साहस और आशा के प्रेरक वृत्तांत भी हैं।

 

Bharat Update
Bharat Update
भारत अपडेट डॉट कॉम एक हिंदी स्वतंत्र पोर्टल है, जिसे शुरू करने के पीछे हमारा यही मक़सद है कि हम प्रिंट मीडिया की विश्वसनीयता इस डिजिटल प्लेटफॉर्म पर भी परोस सकें। हम कोई बड़े मीडिया घराने नहीं हैं बल्कि हम तो सीमित संसाधनों के साथ पत्रकारिता करने वाले हैं। कौन नहीं जानता कि सत्य और मौलिकता संसाधनों की मोहताज नहीं होती। हमारी भी यही ताक़त है। हमारे पास ग्राउंड रिपोर्ट्स हैं, हमारे पास सत्य है, हमारे पास वो पत्रकारिता है, जो इसे ओरों से विशिष्ट बनाने का माद्दा रखती है।
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments