24.9 C
New York
Wednesday, June 19, 2024
Homeविविधबिज़नेसभारत की लीडिंग अफोर्डेबल हाउसिंग फाइनेंस कंपनी बनी आईआईएफएल होम फाइनेंस, जिसका...

भारत की लीडिंग अफोर्डेबल हाउसिंग फाइनेंस कंपनी बनी आईआईएफएल होम फाइनेंस, जिसका एयूएम 35,000 करोड़ रुपए के पार पहुंचा और पीएटी में सालाना आधार पर 32% की बढ़ोतरी

टीम भारत अपडेट l आईआईएफएल होम फाइनेंस लिमिटेड (आईआईएफएल एचएफएल) का एसेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) वित्त वर्ष 2023 में 28,512 करोड़ रुपए था जो वित्त वर्ष 2024 में बढ़कर 35,499 करोड़ रुपए हो गया। ये सालाना आधार पर 25% की ग्रोथ है। इससे ये 14.26 लाख रुपए के औसत टिकट आकार के साथ भारत की सबसे बड़ी अफोर्डेबल हाउसिंग कंपनी बन गई है।

6 मई, 2024 की एक्सचेंज रिपोर्टिंग के अनुसार, अबू धाबी इन्वेस्टमेंट्स अथॉरिटी (एडीआईए) की 20% से अधिक शेयरहोल्डिंग वाली कंपनी के ऑपरेशन से रेवेन्यू वित्त वर्ष 23 में 2,712 करोड़ रुपए था जो वित्त वर्ष 24 में बढ़कर 3,317 करोड़ रुपए हो गया। ये सालाना आधार पर 23% की ग्रोथ है। प्रॉफिट आफ्टर टैक्स में सालाना आधार पर 32% की बढ़ोतरी देखने को मिली है। वित्त वर्ष 23 में प्रॉफिट आफ्टर टैक्स 768 करोड़ रुपए था जो वित्त वर्ष 24 में बढ़कर 1017 करोड़ रुपए हो गया। एनआईएम में 80 बीपीएस का सुधार देखा गया है। 42.7% के पूंजी पर्याप्तता अनुपात के साथ वित्त वर्ष 2024 में ये मजबूत होकर 7.3% हो गया। 2023 में यह 6.5% था। ग्रॉस एनपीए में भी 60 बीपीएस से अधिक का सुधार देखा गया है। वित्त वर्ष 2023 में ये 2.1% था जो वित्त वर्ष 2024 में 1.5% हो गया। देश की सभी अफोर्डेबल हाउसिंग कंपनियों के बीच कंपनी का लागत-आय अनुपात सबसे कम है।

आईआईएफएल होम फाइनेंस के ईडी और सीईओ मोनू रात्रा ने कहा, “ आईआईएफएल होम फाइनेंस पहली बार घर खरीदने वालों और महिला उधारकर्ताओं/सह-उधारकर्ताओं पर ध्यान देने के साथ, विशेष रूप से ईडब्ल्यूएस और एलआईजी सेगमेंट के लिए किफायती होम लोन प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है। ऑपरेशनल एक्सीलेंस और टेक्नोलॉजी आधारित समाधानों पर हमारे फोकस के कारण न केवल एयूएम में ग्रोथ हुई है, एनआईएम में बढ़ोतरी हुई है, क्रेडिट कॉस्ट में कमी आई है जिसके परिणामस्वरूप बेहतर प्रॉफिटेबिलिटी आई है, बल्कि अधिक ग्राहक भी आए हैं जो इसमें विश्वास करते हैं। एक्टिव कस्टमर बेस 202885 से बढ़कर 281514 हो गया है।

प्रमुख बिजनेस और फाइनेंशियल मैट्रिक्स

  • 27,400 करोड़ से अधिक के कुल एयूएम में होम लोन का योगदान 29% है।
  • सभी लोन के लिए औसत टिकट आकार (एटीएस) 26 लाख रुपये रहा। होम लोन के लिए एटीएस 15.28 लाख रुपए है।
  • डिस्बर्समेंट वॉल्यूम वित्त वर्ष 2023 में 10,061 करोड़ रुपए था जो वित्त वर्ष 2024 में 28% बढ़कर 12861 करोड़ ररुपए हो गया।
  • एक्टिव कस्टमर बेस वित्त वर्ष 2023 में 202885 था जो वित्त वर्ष 2024 में बढ़कर 281514 हो गया।
  • 31 मार्च, 2024 तक 80% से अधिक होम लोन ग्राहकों में महिला उधारकर्ता और सह-उधारकर्ता शामिल हैं।
  • 17 राज्यों में करीब 400 शाखाएं।
  • वित्त वर्ष 23 में 9% की तुलना में वित्त वर्ष 24 में आरओए 4.4% रहा।
  • 7% के पूंजी पर्याप्तता अनुपात के साथ वित्त वर्ष 2024 में 16.9% का हेल्दी आरओई
  • वित्त वर्ष 2024 में एयूएम पर यील्ड 6% रही, जबकि वित्त वर्ष 2023 में यह 11.8% थी
  • एनआईएम वित्त वर्ष 2023 में 5% से बढ़कर वित्त वर्ष 24 में 7.3% रही।

एडीआईए और डीएफआई जैसे डीएफसी, आईएफसी और एडीबी जैसे इन्वेस्टर्स का सपोर्ट पाना सौभाग्य की बात है, जिन्होंने हम पर भरोसा दिखाया है। केवल एक दशक में, हम 2,000 करोड़ रुपए से कम एयूएम से बढ़कर आज 35,499 करोड़ रुपए एयूएम हो गए हैं! यह वंचित वर्गों पर ध्यान देने के हमारे कमिटमेंट को दर्शाता है। हमारा वित्तीय प्रदर्शन इंडस्ट्री में सर्वश्रेष्ठ में से एक है, और अगले 3 साल में हमारे एयूएम में सालाना आधार पर 20% की औसत वृद्धि देखी जाएगी।

आईआईएफएल होम फाइनेंस के जोनल सेल्स हेड – नॉर्थ, प्रवीण खुल्लर ने कहा, “आने वाले वर्षों में, हम अपनी डिजिटल क्षमताओं के उपयोग के साथ अपनी पहुंच का विस्तार करने की योजना बना रहे हैं। इसके साथ ही हम जिन 17 राज्यों में मौजूद है वहां अधिक अंदर तक जाने पर फोकस करेंगे। गुजरात, राजस्थान जैसे राज्य हाउसिंग और उसके बाद लोन की डिमांड की भारी संभावना को प्रदर्शित करते हैं। हम टेक्नोलॉजी इंटरवेंशन्स पर भी काम कर रहे हैं जो हमें टियर 3 और 4 बाजारों के ग्राहकों के लिए कस्टमाइज्ड एप्लीकेशन बनाने में मदद करेगा। इससे ग्राहक अनुभव बेहतर होगा और लोन अप्रूवल में कम समय लगेगा। वित्त वर्ष 24-25 में, हमारा लक्ष्य अपने दिल्ली एनसीआर रीजन, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में 100 मजबूत ब्रांच नेटवर्क के माध्यम से 38,000 से अधिक नए ग्राहकों को सेवा प्रदान करना है, जिनमें से ज्यादातर फर्स्ट टाइम होम बायर्स हैं।”

आईआईएफएल होम फाइनेंस लिमिटेड, ने कम आय और आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए अफोर्डेबल और ग्रीन हाउसिंग को सपोर्ट करने के लिए वित्त वर्ष 23-24 में यू.एस. इंटरनेशनल डेवलपमेंट फाइनेंस कॉरपोरेशन (डीएफसी), इंटरनेशनल फाइनेंस कॉरपोरेशन (आईएफसी) जैसे डीएफआई से भी 450 मिलियन डॉलर से अधिक की फंडिंग हासिल की है। यह न केवल आईआईएफएल एचएफएल को एक लीडिंग अफोर्डेबल हाउसिंग कंपनी के रूप में मजबूत करता है, बल्कि सभी के लिए आवास के सरकार के दृष्टिकोण के अनुरूप है। ये वित्तीय समावेशन, पर्यावरण और सामाजिक जिम्मेदारी को बढ़ावा देता है, और भारत में अफोर्डेबल हाउस गैप को संबोधित करने में सहायक होगा।

Bharat Update
Bharat Update
भारत अपडेट डॉट कॉम एक हिंदी स्वतंत्र पोर्टल है, जिसे शुरू करने के पीछे हमारा यही मक़सद है कि हम प्रिंट मीडिया की विश्वसनीयता इस डिजिटल प्लेटफॉर्म पर भी परोस सकें। हम कोई बड़े मीडिया घराने नहीं हैं बल्कि हम तो सीमित संसाधनों के साथ पत्रकारिता करने वाले हैं। कौन नहीं जानता कि सत्य और मौलिकता संसाधनों की मोहताज नहीं होती। हमारी भी यही ताक़त है। हमारे पास ग्राउंड रिपोर्ट्स हैं, हमारे पास सत्य है, हमारे पास वो पत्रकारिता है, जो इसे ओरों से विशिष्ट बनाने का माद्दा रखती है।
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments