31.1 C
New York
Tuesday, July 16, 2024
Homeविविधबिज़नेसमिलिए पति-पत्नी से जो उत्तर भारत में एमेज़ॉन डिलीवरी सर्विस पार्टनर प्रोग्राम...

मिलिए पति-पत्नी से जो उत्तर भारत में एमेज़ॉन डिलीवरी सर्विस पार्टनर प्रोग्राम के साथ एक सफल लॉजिस्टिक्स व्यवसाय चला रहे हैं

टीम भारत अपडेट। पिछले कुछ सालों में भारतीयों का आकर्षक बेहतरीन करियर के लिए उद्यमशीलता की ओर बढ़ा है। समाज के लिए कुछ अलग करने और लोगों को काम के अवसर देने की इच्छा के कारण कई लोग पारंपरिक करियर से अलग दिशा में जाने का साहसी कदम उठा रहे हैं, और उद्यमशीलता के सफर की ओर बढ़ रहे हैं। सचिन और मनीषा शर्मा ऐसे ही पति-पत्नी हैं, जिन्होंने एमेज़ॉन के डिलीवरी सर्विस पार्टनर (डीएसपी) प्रोग्राम के साथ एमएंडएम लॉजिस्टिक्स सॉल्यूशंस की स्थापना की और भारत के उत्तरी हिस्से में सैकड़ों स्थानीय लोगों के लिए काम के प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष अवसरों का निर्माण किया।

सचिन एमिटी यूनिवर्सिटी, नोएडा से इंटरनेशनल बिज़नेस में पोस्टग्रेजुएट किया है, जिसके बाद वो अपने परिवार के वेयरहाउस के बिज़नेस में संलग्न हो गए। 8 सालों के बाद उन्हें अहसास हुआ कि वो एक नया एंटरप्रेन्योरशिप वेंचर शुरू करना चाहते हैं। 2015 में उनके एक दोस्त ने उन्हें एमेज़ॉन इंडिया के डिलीवरी सर्विस पार्टनर प्रोग्राम के बारे में बताया, और यही से उनके व्यवसायिक सफर ने एक नया मोड़ लिया। उन्हें उद्यमशीलता के काफी विश्वास था, और इसमें वो अकेले नहीं थे। उनकी पत्नी मनीषा, जिन्होंने इंग्लिश में मास्टर्स की डिग्री ली है, वो उनके इस प्रयास में उनके साथ शामिल हो गईं। उन्होंने मिलकर अक्टूबर, 2015 में एमेज़ॉन के डिलीवरी सर्विस पार्टनर्स के रूप में एमएंडएम लॉजिस्टिक्स सॉल्यूशंस की स्थापना की।
सचिन और मनीषा ने करोलबाग, दिल्ली में केवल एक डिलीवरी स्टेशन के साथ शुरुआत की। पिछले 8 सालों में उन्होंने अलग-अलग जगहों पर अपने व्यवसाय का विस्तार कर लिया है। आज वो एमेज़ॉन के पैकेज पहुँचाने के लिए उत्तर प्रदेश, हरियाणा, उत्तराखंड, और दिल्ली-एनसीआर में 21 शहरों में लगभग 45 डिलीवरी स्टेशन चलाते हैं।
सचिन ने कहा, ‘‘एमेज़ॉन के डिलीवरी सर्विस पार्टनर के रूप में उद्यमशीलता का सफर बहुत ही संतोषप्रद रहा है। इस मार्ग में कई चुनौतियाँ आईं, लेकिन हमने हर क्षण का आनंद लिया। पिछले 8 सालों में हमने तेजी से विकास किया है, और उत्तर भारत के लोगों एवं अनुषंगी व्यवसायों के लिए अनेक अवसरों का निर्माण किया है। यह सब मेरी पत्नी के सहयोग और एमेज़ॉन की साझेदारी द्वारा संभव हो सका।’’ मनीषा ने कहा, ‘‘मैं हमेशा स्वतंत्र बनना चाहती थी और एमेज़ॉन ने मुझे उद्यमशीलता का सपना पूरा करने का अवसर दिया। इस अवसर की मदद से हमने अलग-अलग क्षेत्रों में लोगों के लिए काम के अवसरों का सृजन किया। एमेज़ॉन के प्रशिक्षण, डिलीवरी टेक्नॉलॉजी और लॉजिस्टिक्स सेक्टर में गहरे ज्ञान ने न केवल हमें व्यवसाय की शुरुआती चुनौतियों को पार करने में मदद की, बल्कि हमारा व्यवसाय तेजी से विकास करने में भी समर्थ बना।’’
8 सालों तक लॉजिस्टिक्स व्यवसाय सफलतापूर्वक चलाने के बाद भी सचिन और मनीषा का मानना है कि यह केवल एक शुरुआत है। अगले कुछ सालों में उनका उद्देश्य हरियाणा और उत्तराखंड में नए शहरों से काम शुरू करना है।
डॉ. करुणा शंकर पांडे, डायरेक्टर, एमेज़ॉन लॉजिस्टिक्स, इंडिया ने कहा, ‘‘मुझे एमेज़ॉन के डिलीवरी सर्विस पार्टनर प्रोग्राम के साथ एमएंडएम लॉजिस्टिक्स सॉल्यूशंस की वृद्धि और उनके साथ अन्य छोटे व मध्यम आकार के व्यवसायों को बढ़ते देखकर बहुत गर्व होता है। सही मार्गदर्शन की मदद से इन उद्यमियों ने न केवल सफल व्यवसाय स्थापित किए, बल्कि उन्होंने अन्य लोगों के लिए अवसरों का निर्माण भी किया।’’
डिलीवरी सर्विस पार्टनर (डीएसपी) प्रोग्राम की मदद से एमेज़ॉन इंडिया ने एमेज़ॉन ग्राहकों को पैकेज पहुँचाने के लिए 300 से ज्यादा लोगों के साथ साझेदारी की है और उन्हें विकास के अवसर प्रदान किए हैं। एमेज़ॉन इंडिया के पास लगभग 2000 डिलीवरी स्टेशन हैं, जो ‘ओन्ड एंड ऑपरेटेड’ बाय एमेज़ॉन हैं। इसके अलावा 750 से ज्यादा शहरों में डिलीवरी सर्विस पार्टनर हैं। 2021 में एमेज़ॉन ने भारत में डिलीवरी सर्विस पार्टनर (डीएसपी) प्रोग्राम का अगला चरण लॉन्च किया, जो उभरते हुए उद्यमियों को अपना खुद का डिलीवरी व्यवसाय स्थापित करने और चलाने में मदद करता है, फिर चाहे उन्हें पहले से डिलीवरी का कोई भी अनुभव रहा हो या नहीं।
Bharat Update
Bharat Update
भारत अपडेट डॉट कॉम एक हिंदी स्वतंत्र पोर्टल है, जिसे शुरू करने के पीछे हमारा यही मक़सद है कि हम प्रिंट मीडिया की विश्वसनीयता इस डिजिटल प्लेटफॉर्म पर भी परोस सकें। हम कोई बड़े मीडिया घराने नहीं हैं बल्कि हम तो सीमित संसाधनों के साथ पत्रकारिता करने वाले हैं। कौन नहीं जानता कि सत्य और मौलिकता संसाधनों की मोहताज नहीं होती। हमारी भी यही ताक़त है। हमारे पास ग्राउंड रिपोर्ट्स हैं, हमारे पास सत्य है, हमारे पास वो पत्रकारिता है, जो इसे ओरों से विशिष्ट बनाने का माद्दा रखती है।
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments